Trell
Discover and Explore!
Download App and Begin Trelling!
  • Seelampur, Shahdara
    Seelampur, Shahdara
    आज भी याद है मुझे वो बचपन जब हम लूडो खेला करते थे वक्त के साथ खेल भी बदलते से गये गुल्ली डंडा, लटटू खेलना, कन्चे खेलना अब किताबी बातें रह गयी है उसकी जगह अब पबजी, टेमपल रन, सबवे सर्फ ने ले ली है ये खेल खेले तो जाते है पर इनमें वो मिट्टी की खुशबू नहीं है मेरा गांव मुझे बुलाता है उ
Follow Follow open_in_new
Discover and Explore!