प्लास्टिक श्राप या आर्शीवाद